ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• सौरव गांगुली की बेटी सना ने नागरिकता कानून के खिलाफ किया पोस्ट, गांगुली ने किया खंडन
• मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे ने निर्भया मामले में दोषी अक्षय ठाकुर द्वारा दायर समीक्षा याचिका पर सुनवाई से खुद को किया अलग
• ममता बनर्जी ने एक अधिसूचना के जरिये NRC से जुड़े कार्यों को पश्चिम बंगाल में रोका
• मऊ में उपद्रवियों ने थाना फूँका, स्थिति नियंत्रण में आयी
• अयोध्या में चार महीनों में आरम्भ होगा एक गगनचुम्बी श्री राम मंदिर का निर्माण-अमित शाह
• पायल रोहतगी की ज़मानत की अर्ज़ी ख़ारिज, रहेंगी 24 दिसंबर तक जेल में
• उद्धव सरकार में दरार, हर बड़ा नेता मंत्री बनाने को बेक़रार
• राहुल गांधी की टिप्पणी के विरोध में “मैं भी सावरकर”
• दिल्ली पुलिस मुख्यालय के सामने बढ़ा विरोध प्रदर्शन, कल दक्षिण पूर्वी दिल्ली के स्कूल बंद
• जूता छुपाई पर दूल्हे ने की मारपीट, दुल्हन ने करवा दिया कैद
• दिल्ली में नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने बसों को आग लगाईं, कारों और बाइकों को तोडा
• भाजपा ने नागरिकता संशोधन विधेयक के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए एक राष्ट्रव्यापी अभियान की घोषणा की
• प्रशांत किशोर ने कहा नीतीश कुमार भी करेंगे NRC का विरोध, नहीं करेंगे राज्य में लागू
• वीर सावरकर पर टिप्पणी के लिए राहुल गांधी को बिना शर्त मांगनी चाहिए माफ़ी- देवेंद्र फडणवीस
• पीएम मोदी ने सरदार वल्लभ भाई पटेल को उनकी पुण्यतिथि पर किया नमन, योगी ने कहा NRC उनको सच्ची श्रद्धांजलि

क्या इस बार आएगा राम मंदिर पर फैसला?

क्या इस बार निकलेगा नतीजा?

अंतत: एक बार फिर से सुनवाई की बात हुई और अयोध्या मामले में रोज़ सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट ने छह अगस्त से रोज़ सुनवाई की तारिख दे दी है। यह बहुत ही दुखद है कि हिन्दुओं को बार बार मंदिर के लिए आस ताकनी पड़ रही है! मगर जैसे एक डायलॉग है कि तारीख पे तारीख, तारीख पे तारीख! मगर यह भगवान पर भी लागू होगा, यह नहीं पता था।

 न जाने कब से भगवान त्रिपाल में बैठे हुए हैं और न जाने कब तक रहेंगे! 1992 में मस्जिद तोड़े जाने से लेकर अब तक न जाने कितना पानी सरयू में बह चुका है, मगर नतीजा नहीं आ पाया है। सरकार पर सरकार बदलती जा रही हैं, अधिकारी पे अधिकारी बदले जा रहे हैं, मगर नतीजा है कि नहीं आ पा रहा है। मजे की बात है कि अदालत के पास सभी मामलों को देखने का समय है मगर राम मंदिर को नहीं ! आखिर ऐसा क्यों हो रहा है इसका जबाव किसी के पास नहीं ही!

  इस मामले का आपसी सहमति से हल निकालने की हर संभावना ख़त्म हो चुकी है और आज ही इस विफलता के बाद अदालत ने छ अगस्त से रोज़ सुनवाई की तारीख दे दी है।

ज्ञात हो कि इलाहबाद हाईकोर्ट ने 2010 में राम जन्मभूमि को तीन बराबर हिस्सों में बांटने का आदेश दिया था। इसमें एक हिस्सा भगवान रामलला विराजमान, दूसरा निर्मोही अखाड़ा व तीसरा हिस्सा सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को देने का आदेश था। इस फैसले को भगवान रामलाल विराजमान सहित हिंदू, मुस्लिम सभी पक्षों ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है।

न जाने कितने लोगों ने राम मंदिर के लिए अपनी जान दी है और गोधरा काण्ड में मारे गए लोग भी भगवान राम की पूजा करने ही गए थे। न जाने कितने कारसेवकों के जले हुए शरीर राम मंदिर की आस में हैं। न जाने कितने कारसेवकों पर मुस्लिमों का भरोसा पाने के लिए गोली चलवा दी थी! सच न जाने करोड़ों  लोगों की आस कब पूरी होगी!

उच्चतम न्यायालय के रोज़ सुनवाई के फैसले से क्या हम यह समझ सकते हैं कि राम मंदिर का फैसला शीघ्र होगा

 उम्मीद कर सकते हैं कि राम अब तम्बू से बाहर आएँगे।

Related Articles