ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• कल से इन राज्यों में अमूल दूध दो रुपये और मदर डेरी तीन रुपये महंगा
• संजय राउत ने सावरकर पर अटल की पंक्तियाँ की ट्वीट, सावरकर माने तेज, त्याग, तप, तत्व
• राहुल सावरकर नहीं, आप हैं राहुल जिन्ना- भाजपा
• पश्चिम बंगाल पहला राज्य जहां लागू होगा नागरिकता संशोधन अधिनियम- भाजपा
• मनोहर पर्रिकर ने जाने से पहले अपना जोश मुझमे डाला- गोवा सीएम प्रमोद सावंत
• उदित राज बने कांग्रेस के प्रवक्ता
• नानावती कमीशन की रिपोर्ट गुजरात विधान सभा में पेश, नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट
• लोकसभा में नागरिकता विधेयक का समर्थन करने के बाद शिवसेना आयी बिल के विरोध में
• भारत के मुसलमानों को नागरिकता संशोधन बिल से नहीं डरना चाहिए- अमित शाह
• हमने छह महीने में जो किया है, वह 70 साल से नहीं किया गया- पीएम मोदी
• NHRC की टीम ने आरोपियों की ऑटोप्सी पर उठाए सवाल, तेलंगाना मुठभेड़ स्थल का किया दौरा
• यूपी सरकार ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता के परिवार के लिए 25 लाख रुपये मुआवजे की घोषणा की, साथ में सरकारी मकान
• मायावती ने उन्नाव पीड़िता की मौत के बाद राज्यपाल आनंदीबेन से मामले में हस्तक्षेप करने का किया अनुरोध
• न्याय कभी बदले की भावना के साथ नहीं किया जाना चाहिए- मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे
• घटनस्थल की जांच करने मानवाधिकार टीम पहुंची हैदराबाद

तीन तलाक एक बार फिर से संसद के द्वार

सरकार बन गयी है और सरकार अब काम करने के लिए भी तैयार है, सरकार ने आते ही अपने क़दमों की झलक दे दी थी। और इसी के साथ राष्ट्रपति ने अपने अभिभाषण में सरकार की मंशाओं को और स्पष्ट कर दिया है। अपने इरादों और सबका विश्वास के अपने सिद्धांत पर चलते हुए सरकार ने आज लोकसभा में मुस्लिम महिलाओं के लिए तीन तलाक का विधेयक प्रस्तुत कर दिया।

मोदी सरकार न केवल इस टर्म में बल्कि पिछले टर्म में भी इस विधेयक को पारित कराने के लिए हर संभव प्रयास किया था, परन्तु लोकसभा में पारित होकर वह राज्यसभा में अटक गया था। यही कारण है कि इस बार फिर से इस विधेयक पर बहस हो रही है। इस दौरान काफी शोरशराबा और हंगामा भी देखने को मिला। आज संसद में केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस विधेयक को पेश करते हुए कहा कि सरकार सबका विकास और सबके साथ न्याय के लिए प्रतिबद्ध है और यही कारण है कि सरकार इस विधेयक को जल्द से जल्द पारित कराना चाहती है। उन्होंने कहा कि इससे मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों की रक्षा होगी।

पिछली बार की तरह इस बार के विधेयक में भी तीन तलाक देने वाले को तीन साल तक की सजा का प्रावधान है। उधर, कांग्रेस सहित कई दलों ने इसका विरोध किया। कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा कि इस मुद्दे पर एक ऐसा कानून बनाया जाए जिसके दायरे में सभी समुदायों के लोग आएं। इससे पहले इस विधेयक की जरूरत बताते हुए क़ानून मंत्री ने देश में विभिन्न स्थानों पर दर्ज किए गए तीन तलाक के पांच सौ से अधिक मामलों का हवाला दिया और उन्होंने यह भी कहा कि माननीय उच्चतम न्यायालय के आदेश के बावजूद सैकड़ों मामले ट्रिपल तलाक के दर्ज हुए  हैं और मुस्लिम महिलाओं को उनके दर्द से छुटकारा नहीं मिला है।

परन्तु ऐसा लगता कि विपक्षी दलों को मुस्लिम पुरुषों से तो मतलब है मगर मुस्लिम महिलाओं से नहीं, यदि ऐसा होता तो वह मुस्लिम महिलाओं के साथ होने वाले अन्याय के साथ न खड़े होकर उनके दर्द को समझती। वह नहीं समझ पा रही कि उसके द्वारा उठाए जा रहे हर कदम पर भारत की जनता की नज़र है। वह अब भी नहीं समझ पा रही है कि वह जनता अब मुद्दों पर बात करना चाहती है, जनता अब वही हिन्दू-मुस्लिम पर बात नहीं करना चाहती। जनता अब यह देख रही है कि कौन उनकी समस्याओं के साथ है और कौन नहीं!

कौन उनकी समस्याओं को हल करना चाहता है और कौन उन पर मात्र परिहास कर चुप रह जाना चाहता है। सबसे दुखद बात तो यह है कि कांग्रेस ने इन चुनाव परिणाम के बाद भी सबक नहीं लिया है। वह अब भी विखंडन की ही राजनीति कर रही है!

अब देखना यह है कि क्या यह विधेयक अब राज्यसभा में पारित हो पाता है या नहीं? या फिर कोंग्रेस एक बार फिर से इस विधेयक में अडंगा डालेगी क्योंकि लोकसभा में यह पारित हो चुका है, अब राज्यसभा की बारी है।

Related Articles