ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• पाकिस्तानी क्रिकेट प्रेमी अब करेंगे भारत की जीत की दुआ
• हज़ारों वर्षों से अस्तित्व में है हिन्दू धर्म, फिर मिला ये प्रमाण
• मंगरू पाहन की मृत्यु लिंचिंग में गिनी जाएगी क्या?
• दो मामलों में आकाश विजयवर्गीय को मिली ज़मानत, एक मामला लंबित
• योगी सरकार ने किया इन 17 जातियों को अनुसूचित सूची में शामिल, सपा-बसपा सकते में
• सुबह 9 बजे दफ्तर पहुंचने के योगी के आदेश से नौकरशाही परेशान
• राजधानी, शताब्दी जैसी ट्रेनों के निजीकरण की कोई योजना नहीं – पीयूष गोयल
• नेहरू और कांग्रेस की वजह से है कश्मीर समस्या, पटेल को दिया धोखा- अमित शाह
• हुआ ऐसे तार-तार जय भीम और जय मीम का झूठा गठजोड़!
• ब्राह्मणों को गाली! अनुभव सिन्हा हम जैसे लोग आपको बड़ा बनाते हैं!
• लिंचिंग से नहीं दिल का दौरा पड़ने से हुई थी तबरेज की मृत्यु
• संजय गांधी की सनक की वजह से आपातकाल में हुआ ऐसा
• तेज प्रताप आज नया मंच ‘तेज सेना’ करेंगे लॉन्च, भाजपा ने की प्रशंसा
• अमित शाह ने अमरनाथ यात्रा के दौरान यात्रियों के लिए सर्वोत्तम संभव व्यवस्था करने का भरोसा दिलाया
• झूठी हैं लिंचिंग की ये घटनाएं, रहें सावधान

अमित शाह ने अमरनाथ यात्रा के दौरान यात्रियों के लिए सर्वोत्तम संभव व्यवस्था करने का भरोसा दिलाया

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों को आतंकवाद के प्रति शून्य-सहिष्णुता दिखाने और राज्य में आतंकी फंडिंग के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए निर्देश दिया।

जम्मू और कश्मीर के दो दिवसीय दौरे पर आए शाह ने राज्य सरकार और केंद्र के शीर्ष अधिकारियों के साथ सुरक्षा समीक्षा बैठक के दौरान ये निर्देश दिए। राज्यपाल सत्यपाल मलिक भी बैठक में उपस्थित थे।

राज्य के मुख्य सचिव बी. वी.आर. सुब्रह्मण्यम ने शाह की दो दिवसीय यात्रा के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि गृह मंत्री ने राज्य में आतंकवादी गतिविधियों पर लगाम कसने का आह्वान किया।

सुब्रह्मण्यम ने गृह मंत्री के हवाले से कहा, “आतंकवाद और आतंकवादियों के प्रति शून्य सहिष्णुता होनी चाहिए। आतंकी फंडिंग के खिलाफ सख्त कार्रवाई जारी रखनी चाहिए।”

उन्होंने आतंकवाद और उग्रवाद का मुकाबला करने में जम्मू और कश्मीर पुलिस के प्रयासों की प्रशंसा की, और निर्देश दिया कि राज्य सरकार  पुलिसकर्मियों की शहादत को याद करने के लिए हर वर्ष उन शहीदों के गृहनगर अथवा गाँव में कार्यक्रम करे।

गृह मंत्री ने अमरनाथ यात्रा की तैयारियों की भी समीक्षा की जो 1 जुलाई से शुरू होगी। शाह ने जोर देकर कहा कि मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) के प्रवर्तन में कोई ढिलाई नहीं होनी चाहिए और वरिष्ठ अधिकारियों को व्यक्तिगत रूप से सभी स्तरों पर यात्रा की व्यवस्था का पर्यवेक्षण करना चाहिए, उन्होंने कहा।

केंद्रीय गृह मंत्री ने यात्रा के दौरान सर्वोत्तम संभव व्यवस्थाओं के लिए अपनी प्रतिबद्धता का भरोसा दिलाया।

Related Articles