ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• मोदी सरकार का फैसला, अब पर्यटन स्थलों पर खींचिए मनचाही फोटो
• पीएम मोदी ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के नए मुख्यालय भवन का किया उद्घाटन
• पीएम मोदी ने नमो एप के जरिए की स्वयं सहायता समूहों के सदस्यों से बातचीत, महिला सशक्तिकरण को बताया सरकार की प्रतिबद्धता
• अमित शाह ने की झारखंड में चुनाव तैयारियों की समीक्षा
• जन्मदिन की वार्षिक भविष्यवाणी (12th July, 2018)
• अंकों से जानें, कैसा होगा आपका दिन (12th July, 2018)
• टैरो राशिफल (12th July, 2018)
• राशिफल (12th July, 2018)
• हमारी सरकार किसान कल्याण के लिए प्रतिबद्ध- पीएम मोदी
• बारिश के बाद भूस्खलन से हुई उत्तराखंड में 16 लोगों की मौत
• मुंबई में बारिश रूकने से राहत, लोकल रेल सेवाएं फिर हुई शुरू
• बीजू जनता दल और वाईएसआर कांग्रेस ने किया एक देश एक चुनाव का समर्थन
• जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, दो आतंकवादी हुए ढेर
• जन्मदिन की वार्षिक भविष्यवाणी (11th July, 2018)
• अंकों से जानें, कैसा होगा आपका दिन (11th July, 2018)

पीएम मोदी ने नमो एप के जरिए की स्वयं सहायता समूहों के सदस्यों से बातचीत, महिला सशक्तिकरण को बताया सरकार की प्रतिबद्धता

जब महिलाएँ अपने पैरों पर खड़ी हो जाती हैं तो दिखा देती हैं की  वो अपने परिवार के साथ साथ पूरे समाज को बदलने का माद्दा रखती हैं। गुरुवार को प्रधानमंत्री ने जब देश भर की महिला स्वयं सहायता समूहों से संवाद किया तो ये संदेश स्पष्ट था।
प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार दीनदयाल अन्तयोदय योजना और राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत महिलाओं को सशक्त कर रही है। स्वयं सहायता समूहों से जुड़ कर लगभग 5 करोड़ महिलाओं को इसका सीधा फायदा पहुंच रहा है।

प्रधानमंत्री ने महिलाओं की हरेक क्षेत्र में भागीदारी की प्रशंसा की। उन्होने कहा कि केंद्र सरकार दीनदयाल अन्तयोदय योजना और राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत महिलाओं को सशक्त कर रही है। ऐसे में बढ़ती आर्थिक स्वतंत्रता महिलाओं को सामाजिक बुराईयों के ख़िलाफ़ खड़े होने और हरेक निर्णय में भागीदारी भी सुनिश्चित कर रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले चार सालों में केंद्र सरकार ने देश की 2।5 लाख पंचायतों तक महिला स्वयं सहायता समूह की पहुंच बनाने का प्रयास किया है। वजह यही है कि 2014 के बाद देश में 2।25 करोड़ महिलाओं को स्वयं सहायता समूहों से जोड़ा गया है और कुल मिलाकर मौजूदा समय में 5 करोड़ महिलाओं को इसका सीधा फायदा पहुंच रहा है।

महिलाओं की ग्रामीण क्षेत्र में भागीदारी के मद्देनज़र प्रधानमंत्री ने आर्थिक सशक्तिकरण पर ज़ोर दिया। उन्होने कहा कि पशुपालन से लेकर कृषि कार्यों सभी की धुरी महिलाऐं ही हैं। ऐसे में उनके ताकत और सामर्थ्य को समान अवसर उपलब्ध कराने की ज़रूरत है।

Related Articles