ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• जन्मदिन की वार्षिक भविष्यवाणी (13th July, 2018)
• आर्थिक राशिफल (13th July, 2018)
• अंकों से जानें, कैसा होगा आपका दिन (13th July, 2018)
• टैरो राशिफल (13th July, 2018)
• राशिफल (13th July, 2018)
• मोदी सरकार का फैसला, अब पर्यटन स्थलों पर खींचिए मनचाही फोटो
• पीएम मोदी ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के नए मुख्यालय भवन का किया उद्घाटन
• पीएम मोदी ने नमो एप के जरिए की स्वयं सहायता समूहों के सदस्यों से बातचीत, महिला सशक्तिकरण को बताया सरकार की प्रतिबद्धता
• किसानों की आमदनी दोगुना करने के लिए सरकार प्रतिबद्ध- पीएम मोदी
• अमित शाह ने की झारखंड में चुनाव तैयारियों की समीक्षा
• जन्मदिन की वार्षिक भविष्यवाणी (12th July, 2018)
• अंकों से जानें, कैसा होगा आपका दिन (12th July, 2018)
• टैरो राशिफल (12th July, 2018)
• राशिफल (12th July, 2018)
• हमारी सरकार किसान कल्याण के लिए प्रतिबद्ध- पीएम मोदी

डबल एजेंट सर्गेइ स्क्रिपल- PM नरेंद्र मोदी ने की रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से फोन पर बात

डबल एजेंट सर्गेई स्क्रिपल और उसकी बेटी यूलिया पर रसायनिक हमले के बाद रूस और ब्रिटेन के मध्य चल रहे तनाव के बीच भारत ने गुरुवार (12 अप्रैल) को कहा कि वह रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के खिलाफ है और मुद्दे का समाधान रासायनिक हथियार संधि के प्रावधानों के अनुरूप किया जाना चाहिए। ऐसी खबरें हैं कि ब्रिटेन मुद्दे को लंदन में अगले हफ्ते होने वाली राष्ट्रमंडल प्रमुखों की बैठक में उठाएगा। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार से जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच टेलीफोन पर हुई बातचीत के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उन्हें इस बारे में सूचना नहीं है कि दोनों नेताओं ने क्या बात की।

हालांकि, उन्होंने कहा, ‘‘भारत कहीं भी, किसी के भी द्वारा, किसी भी स्थिति में रसायनिक हथियारों का इस्तेमाल किए जाने के खिलाफ है। हम उम्मीद करते हैं कि मुद्दे का समाधान रसायनिक हथियार संधि के प्रावधानों के अनुरूप होगा।’’ सीरिया के डोउमा शहर में कथित रासायनिक हमले की खबरों के बीच कुमार ने कहा कि इस तरह के हथियारों का कहीं भी इस्तेमाल रासायनिक हथियार संधि के खिलाफ है और ऐसा कृत्य करने वालों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए।

डबल एजेंट सर्गेइ स्क्रिपल पर हमले का मामला
ब्रिटेन में चार मार्च को सालिसबरी में पूर्व डबल एजेंट सर्गेइ स्क्रिपल और उनकी बेटी यूलिया पर नर्व एजेंट से हमला किया गया, जिसमें वे दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए थे। ब्रिटेन ने कहा कि इस हत्या के पीछे रूस के होने की ‘‘पूरी संभावना’’ है। हालांकि रूस ने आक्रामक रूप से इस आरोप को खारिज किया है। अमेरिका, यूरोपीय संघ के सदस्यों, नाटो देशों और अन्य देशो ने रूस के 150 से अधिक राजनयिकों को निष्कासित करने का आदेश दिया था और रूस ने भी इसका ऐसा ही जवाब दिया।

loading…

माल्टिंग्स शॉपिंग सेंटर में एक बेंच पर बेसुध पड़े थे सर्गेई स्क्रिपल
6 मार्च की खबर के मुताबिक एक पूर्व रूसी जासूस को किसी अज्ञात संदिग्ध चीज के संपर्क में आने की वजह से गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। विल्टशायर पुलिस ने कहा कि 60 से ज्यादा की उम्र का एक पुरुष और 30 साल से ज्यादा उम्र की एक महिला 5 मार्च (रविवार) दोपहर सेलिसबरी शहर के माल्टिंग्स शॉपिंग सेंटर में एक बेंच पर बेसुध पड़े मिले। दोनों के शरीर पर किसी तरह की चोट के निशान नहीं थे। सुरक्षा अधिकारी क्रेग होल्डन ने कहा कि हो सकता है कि दोनों एक दूसरे को जानते हों। उस दौरान दोनों की ही हालत गंभीर बनी हुई थी।

डीप कवर स्लीपर एजेंट
यह मामला इसलिए बड़ा है क्योंकि पूर्व रूसी जासूस सर्गेई स्क्रिपल (66) उन चार रूसी लोगों में से एक है जिसे 2010 में मॉस्को ने अमेरिका में 10 डीप कवर ‘स्लीपर’ एजेंट के तौर पर बदला था, जिसके बाद उसे ब्रिटेन में शरणार्थी का दर्जा दे दिया गया था। स्क्रिपल रूसी सैन्य खुफिया अधिकारी के पद से सेवानिवृत हुए थे। उन्हें ब्रिटेन के लिए जासूसी करने के आरोप में रूस ने 2006 में 13 साल के जेल की सजा सुनाई थी।

loading…

Related Articles