ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• कल से इन राज्यों में अमूल दूध दो रुपये और मदर डेरी तीन रुपये महंगा
• संजय राउत ने सावरकर पर अटल की पंक्तियाँ की ट्वीट, सावरकर माने तेज, त्याग, तप, तत्व
• राहुल सावरकर नहीं, आप हैं राहुल जिन्ना- भाजपा
• पश्चिम बंगाल पहला राज्य जहां लागू होगा नागरिकता संशोधन अधिनियम- भाजपा
• मनोहर पर्रिकर ने जाने से पहले अपना जोश मुझमे डाला- गोवा सीएम प्रमोद सावंत
• उदित राज बने कांग्रेस के प्रवक्ता
• नानावती कमीशन की रिपोर्ट गुजरात विधान सभा में पेश, नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट
• लोकसभा में नागरिकता विधेयक का समर्थन करने के बाद शिवसेना आयी बिल के विरोध में
• भारत के मुसलमानों को नागरिकता संशोधन बिल से नहीं डरना चाहिए- अमित शाह
• हमने छह महीने में जो किया है, वह 70 साल से नहीं किया गया- पीएम मोदी
• NHRC की टीम ने आरोपियों की ऑटोप्सी पर उठाए सवाल, तेलंगाना मुठभेड़ स्थल का किया दौरा
• यूपी सरकार ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता के परिवार के लिए 25 लाख रुपये मुआवजे की घोषणा की, साथ में सरकारी मकान
• मायावती ने उन्नाव पीड़िता की मौत के बाद राज्यपाल आनंदीबेन से मामले में हस्तक्षेप करने का किया अनुरोध
• न्याय कभी बदले की भावना के साथ नहीं किया जाना चाहिए- मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे
• घटनस्थल की जांच करने मानवाधिकार टीम पहुंची हैदराबाद

देवेंद्र फडणवीस महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री सिर्फ केंद्र को 40,000 करोड़ रुपये वापस करने के लिए बने- अनंत कुमार हेगड़े

भारतीय जनता पार्टी के नेता अनंतकुमार हेगड़े ने सोमवार को दावा किया कि देवेंद्र फडणवीस 80 घंटे के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री सिर्फ केंद्र को 40,000 करोड़ रुपये वापस करने के लिए बने। कर्नाटक में उत्तरा कन्नड़ निर्वाचन क्षेत्र से संसद के सदस्य हेगड़े विवादास्पद टिप्पणी करने के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने कहा कि हर कोई यह पूछ रहा है कि बीजेपी ने बिना संख्या के महाराष्ट्र में सरकार क्यों बनाई, उन्होंने फिर यह स्पष्टीकरण दिया।

“एक सीएम के पास केंद्र का लगभग 40,000 करोड़ रुपये रहता है। देवेंद्र फड़नवीस जानते थे कि अगर कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी,एनसीपी और शिवसेना सरकार सत्ता में आती है तो वह विकास न करके धन का दुरुपयोग करेगी। इसलिए यह तय किया गया कि एक नाटक होना चाहिए। फडणवीस सीएम बने और 15 घंटे में उन्होंने केंद्र को 40,000 करोड़ रुपये वापस दे दिए, “हेगड़े ने एएनआई को बताया।

49 वर्षीय फड़नवीस ने सीएम पद की शपथ लेने के तीन दिन बाद मंगलवार को इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने एनसीपी के अजीत पवार के नेतृत्व में एक स्प्लिन्टर समूह के समर्थन से सरकार बनाई, जिन्हे डिप्टी सीएम के रूप में शपथ दिलाई गई। लेकिन दोनों ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा विश्वास मत पर दिए गए आदेश के बाद इस्तीफा दे दिया क्योंकि उनके पास संख्या नहीं थी। 

Related Articles