ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• कल से इन राज्यों में अमूल दूध दो रुपये और मदर डेरी तीन रुपये महंगा
• संजय राउत ने सावरकर पर अटल की पंक्तियाँ की ट्वीट, सावरकर माने तेज, त्याग, तप, तत्व
• राहुल सावरकर नहीं, आप हैं राहुल जिन्ना- भाजपा
• पश्चिम बंगाल पहला राज्य जहां लागू होगा नागरिकता संशोधन अधिनियम- भाजपा
• मनोहर पर्रिकर ने जाने से पहले अपना जोश मुझमे डाला- गोवा सीएम प्रमोद सावंत
• उदित राज बने कांग्रेस के प्रवक्ता
• नानावती कमीशन की रिपोर्ट गुजरात विधान सभा में पेश, नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट
• लोकसभा में नागरिकता विधेयक का समर्थन करने के बाद शिवसेना आयी बिल के विरोध में
• भारत के मुसलमानों को नागरिकता संशोधन बिल से नहीं डरना चाहिए- अमित शाह
• हमने छह महीने में जो किया है, वह 70 साल से नहीं किया गया- पीएम मोदी
• NHRC की टीम ने आरोपियों की ऑटोप्सी पर उठाए सवाल, तेलंगाना मुठभेड़ स्थल का किया दौरा
• यूपी सरकार ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता के परिवार के लिए 25 लाख रुपये मुआवजे की घोषणा की, साथ में सरकारी मकान
• मायावती ने उन्नाव पीड़िता की मौत के बाद राज्यपाल आनंदीबेन से मामले में हस्तक्षेप करने का किया अनुरोध
• न्याय कभी बदले की भावना के साथ नहीं किया जाना चाहिए- मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे
• घटनस्थल की जांच करने मानवाधिकार टीम पहुंची हैदराबाद

शिवराज सरकार के खिलाफ इंदौर के मुद्दों को उठाने के लिए कांग्रेस का लिया सहारा- सुमित्रा महाजन

पूर्व लोकसभा अध्यक्ष और इंदौर की पूर्व भाजपा सांसद सुमित्रा महाजन ने कहा कि उन्होंने अपने निर्वाचन क्षेत्र के विकास के मुद्दों के लिए राज्य में तत्कालीन शिवराज सिंह चौहान सरकार पर दबाव बनाने के लिए कांग्रेस नेताओं की मदद ली। उन्होंने दावा किया कि जब उनकी पार्टी की रकार मप्र में सत्ता में थी तो वह कई बार जनहित के मुद्दों को नहीं उठा पायीं क्योंकि वो “अनुशासन से बंधी थीं।

पिछले साल के आखिर में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 15 साल बाद भाजपा से सत्ता छीनी।

मप्र में पिछली भाजपा सरकार के दौरान मैं कई बार जनहित के मुद्दों को नहीं उठा सकी। फिर, मैं बहुत ही विनम्र तरीके से, उन्हें (कांग्रेस नेताओं को) ऐसे मुद्दों को उठाने के लिए कहती थी, उन्हें वादा करते हुए कि मैं (तत्कालीन) मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से जरूरतमंदों के लिए काम करने के लिए कहूँगी।

“जब इंदौर के विकास की बात आती है, तब हम दलगत राजनीति से ऊपर उठ जाते हैं” आठ-बार की पूर्व सांसद ने कहा, जिन्हें इस बार के लोकसभा चुनाव में टिकट से वंचित कर दिया गया था, क्योंकि वो 75 साल की उम्र पार कर चुकी थीं। उन्होंने कहा, “मैं पार्टी के अनुशासन के साथ बंधी हुई थी, इसलिए पिछली राज्य सरकार के खिलाफ सार्वजनिक रूप से बात नहीं कर सकती थी,” उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेताओं ने ऐसे समय में उनकी बात रखी।

कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावत ने उनके इस बयान की प्रशंसा की।

“पूर्व सांसद के शब्दों को सही भावना से लिया जाना चाहिए। सिलावत ने कहा कि ताई (जैसा कि महाजन लोकप्रिय हैं) ने हमेशा इंदौर क्षेत्र की प्रगति के बारे में सोचा, और दलगत राजनीति से ऊपर उठकर इंदौर के विकास की बात की। 

Related Articles