ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• मोबाइल फोन से सुलगता बचपन
• प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की विदेश यात्राओं पर पुनः एक बार हंगामा क्यों?
• अहंकार की राजनीति से नैया पार नहीं होती
• लंदन में विजय माल्या का विरोध, भारत बदल रहा है
• कठुआ काण्ड में क्या हुआ न्याय?
• गिरीश कर्नाड का जाना एक सोच का अंत
• अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर कुंठा?
• जाति के झूठे नैरेटिव में फंसा रैगिंग का मुद्दा
• इजरायल ने माना भारत को अपना सबसे अच्छा मित्र
• बंगाल में क्यों हुआ खूनी संघर्ष?
• जन्मदिन की वार्षिक भविष्यवाणी (13th July, 2018)
• आर्थिक राशिफल (13th July, 2018)
• अंकों से जानें, कैसा होगा आपका दिन (13th July, 2018)
• टैरो राशिफल (13th July, 2018)
• राशिफल (13th July, 2018)

पीएम मोदी समेत शीर्ष भाजपा नेताओं ने जनसंघ के संस्थापक डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी को दी श्रद्धांजलि

जनसंघ के संस्थापक डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जयंती पर शुक्रवार को उन्हें संसद भवन के सेंट्रल हॉल में श्रद्धांजलि दी गई। लोक सभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत मंत्रिमंडल के सदस्यों ने उन्हें याद किया।

डॉ मुखर्जी को याद करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें शिक्षाविद्, बेहतरीन प्रशासक और एक ऐसी महान शख्सियत बताया जिसने देश की आजादी के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया। प्रधानमंत्री ने डॉ मुखर्जी को नमन करते हुए एक वीडियो भी साझा किया है।

बीजेपी मुख्यालय में डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी को श्रद्धाजंलि दी गई। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, संगठन महासचिव रामलाल सहित कई बीजेपी नेताओं ने डॉ मुखर्जी को श्रद्धासुमन अर्पित किए। नई दिल्ली के शहीदी पार्क में डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा पर केंद्रीय मंत्री विजय गोयल सहित कई गणमान्य व्यक्तियों ने श्रद्धासुमन अर्पित किए।

डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जयंती पर केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने ब्लॉग लिखा है। उन्होंने लिखा है कि, ‘मैं एक भुला दिए गए अध्याय को याद कर रहा हूं, जहां डॉ मुखर्जी द्वारा अखंड भारत की वकालत पर पंडित नेहरू ने संविधान में संशोधन किया था। डॉ मुखर्जी की आवाज़ को दबाने के लिए पंडित नेहरू ने संविधान में संशोधन किया। अप्रैल 1950 में नेहरू-लियाक़त समझौते से दो दिन पहले डॉ मुखर्जी ने विरोध स्वरूप कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया था। समझौते के विरोध में डॉ मुखर्जी ने संसद के भीतर और बाहर विस्तार से बात की।’

Related Articles