ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• RSS को लेकर कमलनाथ ने दिया ये विवादित बयान, पढ़ें
• बैंकों, MSME को राहत दे सकती है आरबीआई
• राफेल डील घोटाले की जांच से बचने को पीएम ने CBI चीफ को हटाया- राहुल गांधी
• आज से शुरू हुई रामायण एक्सप्रेस, जानें वानर सेना ने किया क्या कमाल
• जन्मदिन की वार्षिक भविष्यवाणी (13th July, 2018)
• आर्थिक राशिफल (13th July, 2018)
• अंकों से जानें, कैसा होगा आपका दिन (13th July, 2018)
• टैरो राशिफल (13th July, 2018)
• राशिफल (13th July, 2018)
• मोदी सरकार का फैसला, अब पर्यटन स्थलों पर खींचिए मनचाही फोटो
• पीएम मोदी ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के नए मुख्यालय भवन का किया उद्घाटन
• पीएम मोदी ने नमो एप के जरिए की स्वयं सहायता समूहों के सदस्यों से बातचीत, महिला सशक्तिकरण को बताया सरकार की प्रतिबद्धता
• किसानों की आमदनी दोगुना करने के लिए सरकार प्रतिबद्ध- पीएम मोदी
• अमित शाह ने की झारखंड में चुनाव तैयारियों की समीक्षा
• जन्मदिन की वार्षिक भविष्यवाणी (12th July, 2018)

बैंकों, MSME को राहत दे सकती है आरबीआई

प्रॉम्प्ट करेक्टिव ऐक्शन (पीसीए) फ्रेमवर्क में ढील देने और एमएसएमई सेक्टर को कर्ज देने के नियमों में ढील देने के मुद्दे पर केंद्र सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) 19 नवंबर को आरबीआई बोर्ड की बैठक से पहले आपस में सहमति बनाने के लिए प्रयासरत है। सूत्रों ने यह जानकारी दी।

सूत्रों का कहना है कि अगर पीसीए फ्रेमवर्क पर दोनों के बीच इस बैठक में सहमति नहीं बन पाती है, तो अगले कुछ सप्ताह में इन मामलों पर सहमति बन सकती है। अगर आरबीआई ढील देता है, तो कुछ बैंक चालू वित्त वर्ष के अंत तक पीसीए फ्रेमवर्क के दायरे से बाहर आ जाएंगे।

कुल 21 सरकारी बैंकों में से 11 बैंक आरबीआई के पीसीए फ्रेमवर्क के दायरे में हैं। इनमें इलाहाबाद बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, कॉरपोरेशन बैंक, आईडीबीआई बैंक, यूको बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन ओवरसीज बैंक, ऑरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, देना बैंक और बैंक ऑफ महाराष्ट्र शामिल हैं।

आरबीआई किसी बैंक पर पीसीए का फंदा डालने को तब मजबूर हो जाती है, जब बैंक तीन अहम कसौटियों में से किसी एक में भी विफल हो जाता है। इन तीनों कसौटियों में कैपिटल टु रिस्क वेटेज्ड एसेट रेशियो, नेट नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स (एनपीए) और रिटर्न टू एसेट (आरओए) शामिल हैं।

सूत्रों का कहना है कि आरबीआई एमएसएमई सेक्टर को सख्त रेटिंग क्राइटेरिया सहित कर्ज के नियमों में ढील देने पर सहमति जता सकता है, ताकि इस क्षेत्र में कर्ज के प्रवाह में सुधार हो।

इसके अलावा, केंद्रीय बैंक नकदी किल्लत से जूझ रहे माइक्रो स्मॉल एंड मीडिया इंटरप्राइजेज (एमएसएमई) और नॉन बैंकिंग फाइनैंशल कंपनियों (एनबीएफसी) को विशेष छूट दे सकता है।

सरकार का मानना है कि 12 करोड़ लोगों को रोजगार देने वाला एमएसएमई क्षेत्र अर्थव्यवस्था के लिए काफी महत्वपूर्ण है। यह क्षेत्र नोटबंदी तथा जीएसटी लागू होने के बाद काफी प्रभावित हुआ है और इसे समर्थन की जरूरत है। हालांकि, केंद्रीय बैंक एमएसएमई तथा एनबीएफसी क्षेत्रों के लिए विशेष व्यवस्था के पक्ष में नहीं है, क्योंकि वह इन्हें संवेदनशील क्षेत्र मानता है।

Related Articles