ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• RSS को लेकर कमलनाथ ने दिया ये विवादित बयान, पढ़ें
• बैंकों, MSME को राहत दे सकती है आरबीआई
• दामाद ने इस बीजेपी नेता के खिलाफ नामांकन भर अपना परचा लिया वापस
• राफेल डील घोटाले की जांच से बचने को पीएम ने CBI चीफ को हटाया- राहुल गांधी
• मंदिर और हिंदुत्व को मुद्दा बनाकर 2019 में चुनाव लड़ेगी बीजेपी
• नरेंद्र मोदी ने जीएसएटी-29 उपग्रह के सफल प्रक्षेपण पर इसरो के वैज्ञानिकों को दी बधाई
• खड़ी गाड़ियों के टायर चुरा लेते हैं ये लोग, ऐसे रहें सावधान
• भारत अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला 2018 शुरू हुआ
• राजस्थान बीजेपी ने दूसरी लिस्ट में 3 मंत्रियों के साथ इन 15 विधायकों के टिकट काटे
• आज से शुरू हुई रामायण एक्सप्रेस, जानें वानर सेना ने किया क्या कमाल
• कैश निकासी की लिमिट घटाने के बाद अब SBI ने किया ये बड़ा ऐलान, जानें
• श्री नरेन्द्र मोदी ने भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू को उनकी जयंती पर दी श्रद्धांजलि
• जन्मदिन की वार्षिक भविष्यवाणी (13th July, 2018)
• आर्थिक राशिफल (13th July, 2018)
• अंकों से जानें, कैसा होगा आपका दिन (13th July, 2018)

भारत अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला 2018 शुरू हुआ

वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री श्री सी. आर. चौधरी ने आज नई दिल्ली के प्रगति मैदान में भारत अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला (आईआईटीएफ) 2018 का उद्घाटन किया। 38वें भारत व्यापार संवर्धन संगठन (इटपो) द्वारा आयोजित यह महत्वपूर्ण मेला 14 से 27 नवम्बर 2018 तक चलेगा।

इस अवसर पर श्री सी. आर. चौधरी ने कहा कि भारत में सेवा क्षेत्र में महत्वपूर्ण स्थिति प्राप्त कर ली है तथा भारत अब कच्चा माल निर्यातक देश से आगे बढ़कर तैयार माल और सेवा क्षेत्र में निर्यातक देश बन रहा है। उन्होंने कहा कि उत्पादन में बढ़ोतरी के साथ-साथ उत्पादों की गुणवत्ता कायम रखने की भी जरूरत है। व्यापार मेले की विषयवस्तु ग्रामीण उद्यम का हवाला देते हुए श्री चौधरी ने कहा कि 40 प्रतिशत निर्माता, ग्रामीण क्षेत्रों के एमएसएमई सेक्टर से आते हैं और उनका ध्यान रखना आवश्यक है।

संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री डॉ. महेश शर्मा ने भी इस अवसर पर कहा कि भारत अब दुनिया में छठवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। उन्होंने मेला परिसर में चलने वाले निर्माण के मद्देनजर सीमित क्षेत्र में इस वर्ष मेले का आयोजन करने के लिए इटपो की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि आईआईटीएफ के जरिए एक छत के नीचे भारतीय परंपरा, संस्कृति और उद्योग गतिविधियों को देखने का अवसर मिलता है।

इस वर्ष के आईआईटीएफ का विशेष महत्व है, क्योंकि इस दौरान महात्मा गांधी की 150वीं जयंती की शुरूआत हो रही है। सभी राज्य, सरकारी संगठन और अन्य हितधारक प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के ‘सबका साथ, सबका विकास’ के विजन को पूरा करने का प्रयास कर रहे हैं। मेले का ‘थीम-पैवेलियन’ ग्रामीण विकास मंत्रालय ने तैयार किया है। मेले में मेक इन इंडिया, स्टार्टअप इंडिया, डिजिटल इंडिया और स्वच्छ भारत जैसी सरकार की विभिन्न पहलों को भी पेश किया गया है।

इस बार साझीदार देश अफगानिस्तान और फोकस देश नेपाल है झारखण्ड फोकस राज्य है।

राज्यों, सरकारी विभागों, भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय कम्पनियों के लगभग 800 प्रतिभागी मेले में हिस्सा ले रहे हैं, जिनमें ग्रामीण दस्तकार, शिल्पकार और एमएमई उद्यमी बड़ी संख्या में शामिल हैं। अफगानिस्तान, चीन, हांगकांग, किरगिजस्तान, ईरान, म्यांमार, नेपाल, नीदरलैंड, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, थाइलैंड, तुर्की, ट्यूनीशिया, वियतनाम और संयुक्त अरब अमीरात ने मेले में हिस्सा लेने के लिए पंजीकरण कराया है।

Related Articles