ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• मोदी सरकार का फैसला, अब पर्यटन स्थलों पर खींचिए मनचाही फोटो
• पीएम मोदी ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के नए मुख्यालय भवन का किया उद्घाटन
• जन्मदिन की वार्षिक भविष्यवाणी (12th July, 2018)
• अंकों से जानें, कैसा होगा आपका दिन (12th July, 2018)
• टैरो राशिफल (12th July, 2018)
• राशिफल (12th July, 2018)
• हमारी सरकार किसान कल्याण के लिए प्रतिबद्ध- पीएम मोदी
• बारिश के बाद भूस्खलन से हुई उत्तराखंड में 16 लोगों की मौत
• मुंबई में बारिश रूकने से राहत, लोकल रेल सेवाएं फिर हुई शुरू
• बीजू जनता दल और वाईएसआर कांग्रेस ने किया एक देश एक चुनाव का समर्थन
• जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, दो आतंकवादी हुए ढेर
• जन्मदिन की वार्षिक भविष्यवाणी (11th July, 2018)
• अंकों से जानें, कैसा होगा आपका दिन (11th July, 2018)
• आर्थिक राशिफल (11th July, 2018)
• टैरो राशिफल (11th July, 2018)

मोदी सरकार का फैसला, अब पर्यटन स्थलों पर खींचिए मनचाही फोटो

देश के पर्यटन स्थलों पर फोटो खींचने को लेकर अब किसी तरह की नहीं रहेगी मनाही, पीएम नरेंद्र मोदी के सुझाव पर संस्कृति मंत्रालय ने जारी किया आदेश

भारत अपनी संस्कृति और समृद्ध विरासतों के लिए जाना जाता है। लेकिन कई बार सैलानियों को कुछ धरोहरों पर तस्वीर खींचने की पाबंदी की वजह से मायूसी हाथ लगती रही है। देशी-विदेशी सैलानियों की इस छोटी सी तकलीफ को समझा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। मौका था भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण यानी एएसआई के नए मुख्यालय भवन के लोकार्पण का। ऐसे में लगे हाथ उन्होंने विभाग को ऐसे नियमों को एक तरह से हटाने की सलाह दी, जो सैलानियों और नई पीढ़ियों को हतोत्साहित कर सकती हैं।

प्रधानमंत्री का इशारा मिलने की देर थी और मिनटों में फैसला हो गया, जिससे खासतौर से सभी देशी विदेशी सैलानी खुश होंगे। इससे पहले पीएम मोदी ने एएसआई के नए मुख्यालय धरोहर भवन का लोकार्पण किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि धरोहरों से समृद्ध देश के सौ शहरों में पुरातत्व से युवा पीढ़ी को परिचित कराने के साथ पर्यटन बढ़ाने के उपायों पर काम होना चाहिए। इसके लिए उन्होंने उन शहरों में पढ़ रहे बच्चों के पाठ्यक्रम में उस शहर की विरासत की पूरी जानकारी देने का सुझाव दिया तो गाइड जैसे पेशे को और ज्यादा प्रोफेशनल तरीके से आगे बढ़ाने का आह्वान किया।

प्रधानमंत्री ने विरासतों के संरक्षण के लिए जनभागीदारी बढ़ाने के साथ कॉरपोरेट जगत को भी इससे जोड़ने की बात की। पीएम ने इस दौरान ये भी कहा कि अपनी विरासत को संवारने संभालने के लिए इसपर गर्व करना भी जरुरी है। प्रधानमंत्री ने इस दौरान एएसआई के पुस्तकालय का भी जायजा लिया जहां इतिहास और पुरातत्व सहित विभिन्न विधाओं पर डेढ़ लाख से भी ज्यादा किताबें मौजूद हैं। यहां पीएम ने सैकड़ों साल पुरानी पांडुलिपियों को भी देखा तो युवा पीढ़ी को देश के इन विरासतों से परिचित कराने के लिए कई सुझाव भी दिए। खास बात ये है कि दिल्ली के तिलक मार्ग पर स्थित एएसआई की ये लाइब्रेरी आम लोगों के लिए भी खुली रहेगी।

Related Articles