ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• कांग्रेस ने PM मोदी की ‘ऐतिहासिक योजना’ का वीडियो शेयर कर उड़ाया मजाक़, कहा- ‘आपकी नियत’ खराब है
• कांग्रेस की सबसे ‘कमजोर नस’ को आज दबाएगी BJP, देशभर में करेगी विरोध-प्रदर्शन
• अमित शाह को आया गुस्सा, जानें किसे सुनाई खरी-खरी
• ऊंटनी का दूध पीने से होने वाले फायदे जानकर चौंक जाएंगे आप
• ओवैसी के भड़काऊ बोल, ‘मुस्लिमों जिंदा रहना चाहते हो तो अपने उम्मीदवार को वोट दो’
• 2019 चुनाव में ईवीएम पर प्रतिबंध लगाए जाने पर भारत में होगा गुंडाराज, जानिये कैसे
• अनकही कहानी- ऐसे बिताए प्रधानमंत्री मोदी ने आपातकाल के दौरान अपने दिन!
• दूल्हे ने ‘दहेज’ में मांगे 1000 पौधे और बारातियों को मिला अनोखा गिफ्ट
• लगातार 27वें दिन और सस्ता हुआ पेट्रोल-डीजल, जानें आज का भाव
• शिखर धवन ने विराट कोहली और धोनी को बताया अपना राम लखन, गया ये गाना
• मोदी सरकार का ऑफर- 25 साल तक मिलेगी मुफ्त बिजली, बस करना होगा ये एक काम
• सपना चौधरी के कांग्रेस में शामिल होने पर तिलमिलाए BJP सांसद, दिया विवादित बयान
• भगवान शिव की पूजा करते समय अपनाएं यह विधि, शीघ्र होगी हर ईच्छा पूरी
• जन्मदिन की वार्षिक भविष्यवाणी (25th June, 2018)
• आर्थिक राशिफल (25th June, 2018)

नरेंद्र मोदी के खुद फोन करने पर भी NDA सरकार से TDP के दो मंत्रियों ने सौपा इस्तीफ़ा

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने के मुद्दे पर सीएम चंद्रबाबू नायडू को मनाने की सभी कोशिशों नाकाम हुई है। गुरुवार (8 मार्च) को पीएम नरेंद्र मोदी ने खुद चंद्रबाबू को फोन किया, लेकिन वह टीडीपी के मंत्रियों को सरकार में बने रहने के लिए नहीं मना सके। भाजपा नेतृत्व वाली राजग सरकार में तेदेपा के दो मंत्री अशोक गजपति राजू और वाई एस चौधरी ने आठ मार्च की शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपना इस्तीफा सौंप दिया। हालांकि राजू ने बाद में संवाददाताओं से कहा कि उनकी पार्टी सत्तारूढ़ गठबंधन का हिस्सा बनी रहेगी। मंत्रियों के इस्तीफे से एक दिन पहले तेदेपा प्रमुख और आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने घोषणा की थी कि राज्य को विशेष श्रेणी का दर्जा प्रदान किये जाने से मना किये जाने के खिलाफ पार्टी के मंत्री केंद्र सरकार से इस्तीफा देंगे।

चौधरी ने कहा कि विशेष श्रेणी का दर्जा राज्य के लिए बहुत भावनात्मक है लेकिन केंद्र ने इसका समाधान नहीं किया।उन्होंने कहा कि विशेष पैकेज भी पर्याप्त नहीं है। हालांकि उन्होंने कहा कि यह कहना अनुचित होगा कि केंद्र ने राज्य के लिए कुछ नहीं किया।ता दें कि टीडीपी आंध्र प्रदेश के लिए विशेष राज्य के दर्जे की मांग कर रही है। इससे पहले केन्द्रीय वित्त मंत्री ने कहा था कि केन्द्र की झोली में ज्यादा खजाना नहीं है, लिहाजा राज्य को फंड तो जरूर दिये जाएंगे, लेकिन विशेष राज्य का दर्जा नहीं दिया जा सकता है। वित्त मंत्री के इस बयान से टीडीपी काफी नाराज दिखी थी।

loading…

इससे पहले गुरुवार को ही आंध्र प्रदेश में नायडू कैबिनेट में शामिल बीजेपी के दो मंत्रियों ने राज्य सरकार से इस्तीफा दे दिया था। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दो मंत्रियों कमनेनी श्रीनिवास और पी.मणिक्याला राव ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन.चंद्रबाबू नायडू को इस्तीफा सौंप दिया। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कमिनेनी श्रीनिवास और एन्डोमेंट मंत्री और पी.मणिक्याला राव ने विधानसभा में मुख्यमंत्री के कक्ष में उनसे मुलाकात की और उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया। उन्होंने इस अवसर के लिए नायडू का आभार भी जताया। वहीं, मुख्यमंत्री ने भी उनके कामकाज की प्रशंसा की। इसके बाद श्रीनिवास ने कहा, “मुझे साढ़े तीन साल से अधिक समय तक उनके साथ काम करने का मौका मिला। मैंने हाल ही में उनसे अपने काम को लेकर उनकी राय पूछी थी। उन्होंने मुझे यह प्रमाणपत्र दिया कि मेरा कोई दुश्मन नहीं है।

loading…

Related Articles