ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• अपने संन्यास को लेकर युवराज का बड़ा बयान, 2019 में ले सकते हैं कोई फैसला
• सीजेआई दीपक मिश्रा पर लगाए गए सभी आरोप गलत साबित, उपराष्ट्रपति ने महाभियोग प्रस्ताव को किया खारिज
• इंदौर में मॉडल युवती से छेड़खानी, शिवराज सिंह चौहान ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई के दिए निर्देश
• शिवराज कैबिनेट- मध्यप्रदेश सरकार ने लिए बड़े फैसले, अब सरकार भरेगी विद्यार्थियों की फीस
• क्रिस गेल ने किया सपना चौधरी के हिट गाने पर गज़ब डांस, वीडियो देखकर सभी हुए हैरान
• राहुल गांधी पर अमित शाह का पलटवार, संविधान बचा रहे हैं या वंश
• KYC के नियमों से वॉलेट की ट्रांजैक्शंस में आई कमी, जानिये कितने प्रतिशत हुई गिरावट
• ‘संविधान बचाओ’ अभियान- बीजेपी का राहुल गांधी के भाषण के बाद पलटवार, राहुल-सोनिया को किसी पर भरोसा नहीं
• VHP प्रमुख कोकजे ने किया अयोध्या का दौरा, कहा-बहुत जल्द शुरू होगा भव्य राम मंदिर का निर्माण
• अगर आपके आईडिया में है दम, तो ये कंपनियाँ देती हैं बिज़नेस के लिए पैसे, आप भी करें अप्‍लाई
• महाभियोग प्रस्ताव खारिज होने पर बोले सुब्रमण्यम स्वामी, कहा- कांग्रेस ने ऐसा करके की खुदकुशी
• अंडे के सफेद हिस्से का सेवन करने से हो सकती है शरीर में एलर्जी, जानिए अंडे के सफेद हिस्से के कुछ और नुकसान
• शिल्पा शिंदे ने पोस्ट किया ‘अडल्ट’ वीडियो का स्क्रीन शॉर्ट, हीना खान ने किया जबरदस्त कमेंट
• कांग्रेसी नेता एम वीरप्पा मोइली ने की राहुल गाँधी की तारीफ, नरेंद्र मोदी की तुलना में अधिक सक्षम बताया
• राजस्थान- BJP प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति पर टिकी सबकी नजरें,शुरू हुई नए नामों पर चर्चा

दिग्विजय सिंह ने स्वीकारी अपने कार्यकाल में दलितों पर अत्याचार की बात- रजनीश अग्रवाल

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह पर भाजपा ने हमला बोला है। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा है कि दिग्विजय सिंह ने छह माह बाद ट्विटर पर वापसी करते हुए स्वयं स्वीकार लिया है कि उनके कार्यकाल में राज्य में अनुसूचित जाति व जनजाति पर किस तरह से अत्याचार होते थे। अग्रवाल ने एक बयान जारी कर कहा कि यह दिग्विजय सिंह ही थे जिनके कार्यकाल में भोपाल घोषणापत्र या दलित एजेंडा पार्ट-एक मध्यप्रदेश में लोगों को आपस में जातीय उन्माद में उलझाने और वर्ग संघर्ष का बड़ा कारण था। गांव-गांव इस आग की तपिश में झुलसा था। अब दिग्विजय सिंह अपनी सत्ता वापसी के लिए जातीय संघर्ष में प्रदेश को झोंकने की ताक में हैं। उनके कार्यकाल में दलितों का कितना भला हुआ ये प्रदेश जानता है।

आंबेडकर जयंती पर किया था ट्वीट
छह महीने में नर्मदा परिक्रमा पूरी करने के बाद दिग्विजय सिंह ने आंबेडकर जयंती के मौके पर ट्वीट किया था आदिवासी, दलित, पिछड़े वर्ग की न्याय यात्रा का एक महत्वपूर्ण पड़ाव 2002 का ‘भोपाल डिक्लेरेशन’ था जिसे मैंने बतौर मुख्यमंत्री मध्य प्रदेश में लागू किया था।

loading…

बुरी स्थिति में थे आदिवासी
भाजपा प्रवक्ता ने आगे कहा कि सच्चाई यह है कि वर्ष 2000 में आदिवासियों के खिलाफ देश में हुए कुल अपराधों का 44 प्रतिशत अकेले मध्यप्रदेश में घटित होता था। उनके मुख्यमंत्री रहते देश में आदिवासी स्त्रियों पर होने वाले अत्याचार का 60 प्रतिशत अकेले मध्यप्रदेश में होता था। तब आदिवासी स्त्रियों की अपहरण की घटनाओं में मध्यप्रदेश का योगदान 54 प्रतिशत था। उनकी सरकार में तब आदिवासियों के विरुद्ध आगजनी की 35.5 प्रतिशत घटनाओं में मध्य प्रदेश का नाम था।

अग्रवाल के मुताबिक, अनुसूचित जाति जिसे दिग्विजय सिंह दलित कहते हैं, वर्ष 2002 में उनके खिलाफ देशभर में हुए कुल अपराधों का 21।5 प्रतिशत अकेले मध्यप्रदेश में होता था। वर्ष 2002 में इसी वर्ग की महिलाओं के विरुद्ध देशभर में हुए कुल दुष्कर्मों का 31 प्रतिशत अकेले मध्य प्रदेश में था।

loading…

Related Articles