ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• अपने संन्यास को लेकर युवराज का बड़ा बयान, 2019 में ले सकते हैं कोई फैसला
• सीजेआई दीपक मिश्रा पर लगाए गए सभी आरोप गलत साबित, उपराष्ट्रपति ने महाभियोग प्रस्ताव को किया खारिज
• इंदौर में मॉडल युवती से छेड़खानी, शिवराज सिंह चौहान ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई के दिए निर्देश
• शिवराज कैबिनेट- मध्यप्रदेश सरकार ने लिए बड़े फैसले, अब सरकार भरेगी विद्यार्थियों की फीस
• क्रिस गेल ने किया सपना चौधरी के हिट गाने पर गज़ब डांस, वीडियो देखकर सभी हुए हैरान
• राहुल गांधी पर अमित शाह का पलटवार, संविधान बचा रहे हैं या वंश
• KYC के नियमों से वॉलेट की ट्रांजैक्शंस में आई कमी, जानिये कितने प्रतिशत हुई गिरावट
• ‘संविधान बचाओ’ अभियान- बीजेपी का राहुल गांधी के भाषण के बाद पलटवार, राहुल-सोनिया को किसी पर भरोसा नहीं
• VHP प्रमुख कोकजे ने किया अयोध्या का दौरा, कहा-बहुत जल्द शुरू होगा भव्य राम मंदिर का निर्माण
• अगर आपके आईडिया में है दम, तो ये कंपनियाँ देती हैं बिज़नेस के लिए पैसे, आप भी करें अप्‍लाई
• महाभियोग प्रस्ताव खारिज होने पर बोले सुब्रमण्यम स्वामी, कहा- कांग्रेस ने ऐसा करके की खुदकुशी
• अंडे के सफेद हिस्से का सेवन करने से हो सकती है शरीर में एलर्जी, जानिए अंडे के सफेद हिस्से के कुछ और नुकसान
• शिल्पा शिंदे ने पोस्ट किया ‘अडल्ट’ वीडियो का स्क्रीन शॉर्ट, हीना खान ने किया जबरदस्त कमेंट
• कांग्रेसी नेता एम वीरप्पा मोइली ने की राहुल गाँधी की तारीफ, नरेंद्र मोदी की तुलना में अधिक सक्षम बताया
• राजस्थान- BJP प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति पर टिकी सबकी नजरें,शुरू हुई नए नामों पर चर्चा

कठुआ रेप केस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार को दिया निर्देश, पीड़ित परिवार और वकील को दी जाए सुरक्षा

जम्मू-कश्मीर के कठुआ में 8 साल की मासूम के साथ गैंगरेप और फिर हत्या के मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने दखल दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार को नोटिस जारी कर पीड़िता के पिता द्वारा दायर याचिका पर फौरान जवाब देने के आदेश दिए हैं। पीड़ित परिवार ने मामले की निष्पक्ष सुनवाई और परिवार की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई थी। इस मामले में सोमवार को सुनवाई की गई थी।

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता इंदिरा जयसिंह ने पीड़िता के पिता का पक्ष रखते हुए कोर्ट को बताया कि इस मामले पर जो माहौल पैदा हो गया है। वह निष्पक्ष सुनवाई के अनुकूल नहीं है। माहौल बहुत ज्यादा ध्रुवीकृत हो गया है।

अधिवक्ता ने कोर्ट को बताया कि राज्य सरकार ने इस मामले में अच्छा काम किया है। पुलिस ने ना केवल आरोपियों को गिरफ्तार किया है, बल्कि साक्ष्यों को भी वैज्ञानिक तरीके से रखा है। पीड़िता की तरफ से दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने राज्य सरकार को आदेश दिया कि पीड़ित परिवार को सुरक्षा मुहैया कराई जाए और उन्हें अदालत में अपना पक्ष रखने में पूरा सहयोग किया जाए।

loading…

निष्पक्ष सुनवाई की मांग
बता दें कि पीड़ित परिवार ने आशंका जाहिर की थी कि निचली आदालत में इस मामले में निष्पक्ष सुनवाई नहीं होगी और उन्हें इंसाफ नहीं मिलेगा। इस डर से पीड़ित परिवार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। अपील में कहा गया है कि इस मामले की सुनवाई राज्य से बाहर की जाए। उनकी अपील पर सोमवार को सुनवाई हुई। उधर, निचली अदालत में पीड़ित परिवार का पक्ष रख रहे वकील दीपिका सिंह राजावत ने भी खुद की जान को खतरा बताया था।

पीड़ित परिवार ने कहा कि इस केस को चंडीगढ़ की कोर्ट में ट्रांसफर कर दिया जाए। उन्होंने अंदेशा जताया है कि केस ट्रांसफर हुए बिना इसकी सही से जांच नहीं हो पाएगी। याचिका में कहा गया है कि नेताओं को नाबालिग आरोपी से मिलने से रोका जाए। साथ ही जांच की प्रगति रिपोर्ट को सुप्रीम कोर्ट के सामने रखा जाए।

दो विशेष लोक अभियोजकों की नियुक्ति
जम्मू-कश्मीर सरकार ने इस मामले में सुनवाई के लिए दो विशेष लोक अभियोजकों की नियुक्ति की है और दोनों ही सिख हैं। इसे इस मामले में हिन्दू मुस्लिम ध्रुवीकरण को देखते हुए तटस्थता सुनिश्चित करने का प्रयास माना जा रहा है।

loading…

Related Articles