ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• कांग्रेस ने PM मोदी की ‘ऐतिहासिक योजना’ का वीडियो शेयर कर उड़ाया मजाक़, कहा- ‘आपकी नियत’ खराब है
• कांग्रेस की सबसे ‘कमजोर नस’ को आज दबाएगी BJP, देशभर में करेगी विरोध-प्रदर्शन
• अमित शाह को आया गुस्सा, जानें किसे सुनाई खरी-खरी
• ऊंटनी का दूध पीने से होने वाले फायदे जानकर चौंक जाएंगे आप
• ओवैसी के भड़काऊ बोल, ‘मुस्लिमों जिंदा रहना चाहते हो तो अपने उम्मीदवार को वोट दो’
• 2019 चुनाव में ईवीएम पर प्रतिबंध लगाए जाने पर भारत में होगा गुंडाराज, जानिये कैसे
• अनकही कहानी- ऐसे बिताए प्रधानमंत्री मोदी ने आपातकाल के दौरान अपने दिन!
• दूल्हे ने ‘दहेज’ में मांगे 1000 पौधे और बारातियों को मिला अनोखा गिफ्ट
• लगातार 27वें दिन और सस्ता हुआ पेट्रोल-डीजल, जानें आज का भाव
• शिखर धवन ने विराट कोहली और धोनी को बताया अपना राम लखन, गया ये गाना
• मोदी सरकार का ऑफर- 25 साल तक मिलेगी मुफ्त बिजली, बस करना होगा ये एक काम
• सपना चौधरी के कांग्रेस में शामिल होने पर तिलमिलाए BJP सांसद, दिया विवादित बयान
• भगवान शिव की पूजा करते समय अपनाएं यह विधि, शीघ्र होगी हर ईच्छा पूरी
• जन्मदिन की वार्षिक भविष्यवाणी (25th June, 2018)
• आर्थिक राशिफल (25th June, 2018)

सुप्रीम कोर्ट का शर्तों के साथ इच्छामृत्यु देने का ऐतिहासिक फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने आज (09 मार्च को) ऐतिहासिक फैसला देते हुए इच्छामृत्यु की इजाजत दे दी है लेकिन इसके साथ ही कड़े दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि इंसानों को भी पूरी गरिमा के साथ मौत को चुनने का अधिकार है। कोर्ट के इस फैसले से अब लाइलाज लोगों या लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर जी रहे लोगों को प्राण त्यागने की इजाजत होगी। कोर्ट ने ऐसे लोगों को लिविंग विल (इच्छामृत्यु का वसीयत) ड्राफ्ट करने की भी अनुमति दे दी है जो मेडिकल कॉमा में रहने या लाइलाज बीमारी से ग्रसित होने की वजह से मौत को गले लगाना चाहते हैं। देश के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता में पांच जजों की संविधान पीठ ने यह फैसला सुनाया है। संविधान पीठ में चीफ जस्टिस के अलावा जस्टिस ए के सिकरी, जस्टिस ए एम खानविलकर, जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ और जस्टिस अशोक भूषण भी शामिल थे।

मामले में पांच जजों ने चार अलग-अलग राय रखी लेकिन सभी ने एकमत होकर लिविंग विल पर सहमति जताई और कहा कि विशेष परिस्थितियों के तहत इच्छामृत्यु की मांग करने वाले लोगों को लिखित रूप में लिविंग विल देना ही होगा। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला उस याचिका पर आया है जिसमें लाइलाज बीमारी से जूझ रहे ऐसे शख्स जिसके स्वास्थ्य में सुधार होने की कोई गुंजाइश नहीं रह गई है, के लिए इच्छामृत्यु की इजाजत देने की मांग की गई थी। कोर्ट ने पिछले साल 11 अक्टूबर को इस मामले पर फैसला सुरक्षित रख लिया था।

loading…

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि इच्छामृत्यु की मांग करने वाले शख्स के परिवार की अर्जी पर लिविंग विल को मंजूर किया जा सकता है लेकिन इसके लिए एक्सपर्ट डॉक्टर्स की टीम को भी यह लिखकर देना होगा कि बीमारी से ग्रस्त शख्स का स्वस्थ होना असंभव है। कॉमन कॉज नामक एक एनजीओ ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर कहा था कि संविधान के आर्टिकल 21 के तहत जैसे नागरिकों को जीने का अधिकार है, उसी तरह उन्हें मरने का भी अधिकार है। इस पर केंद्र सरकार ने इच्छामृत्यु की वसीयत (लिविंग विल) का विरोध किया था। हालांकि, मेडिकल बोर्ड के निर्देश पर लाइफ सपोर्ट सिस्टम हटाने की हामी भरी थी।

loading…

Related Articles