ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• अपने संन्यास को लेकर युवराज का बड़ा बयान, 2019 में ले सकते हैं कोई फैसला
• सीजेआई दीपक मिश्रा पर लगाए गए सभी आरोप गलत साबित, उपराष्ट्रपति ने महाभियोग प्रस्ताव को किया खारिज
• इंदौर में मॉडल युवती से छेड़खानी, शिवराज सिंह चौहान ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई के दिए निर्देश
• शिवराज कैबिनेट- मध्यप्रदेश सरकार ने लिए बड़े फैसले, अब सरकार भरेगी विद्यार्थियों की फीस
• क्रिस गेल ने किया सपना चौधरी के हिट गाने पर गज़ब डांस, वीडियो देखकर सभी हुए हैरान
• राहुल गांधी पर अमित शाह का पलटवार, संविधान बचा रहे हैं या वंश
• KYC के नियमों से वॉलेट की ट्रांजैक्शंस में आई कमी, जानिये कितने प्रतिशत हुई गिरावट
• ‘संविधान बचाओ’ अभियान- बीजेपी का राहुल गांधी के भाषण के बाद पलटवार, राहुल-सोनिया को किसी पर भरोसा नहीं
• VHP प्रमुख कोकजे ने किया अयोध्या का दौरा, कहा-बहुत जल्द शुरू होगा भव्य राम मंदिर का निर्माण
• अगर आपके आईडिया में है दम, तो ये कंपनियाँ देती हैं बिज़नेस के लिए पैसे, आप भी करें अप्‍लाई
• महाभियोग प्रस्ताव खारिज होने पर बोले सुब्रमण्यम स्वामी, कहा- कांग्रेस ने ऐसा करके की खुदकुशी
• अंडे के सफेद हिस्से का सेवन करने से हो सकती है शरीर में एलर्जी, जानिए अंडे के सफेद हिस्से के कुछ और नुकसान
• शिल्पा शिंदे ने पोस्ट किया ‘अडल्ट’ वीडियो का स्क्रीन शॉर्ट, हीना खान ने किया जबरदस्त कमेंट
• कांग्रेसी नेता एम वीरप्पा मोइली ने की राहुल गाँधी की तारीफ, नरेंद्र मोदी की तुलना में अधिक सक्षम बताया
• राजस्थान- BJP प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति पर टिकी सबकी नजरें,शुरू हुई नए नामों पर चर्चा

वीएचपी के नए अध्यक्ष ने अभी तक नहीं किये रामलला के दर्शन, अब है राममंदिर बनवाने की जिम्मेदारी

राम मंदिर आंदोलन से देश और विदेश में पहचान बनाने वाले हिंदू संगठन विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के नवनिर्वाचित अध्यक्ष व कार्यकारी अध्यक्ष का संबंध अयोध्या से ना के बराबर रहा है। शनिवार को हुए चुनाव में राघव रेड्डी के स्थान पर नए अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष जस्टिस विष्णु सदाशिव कोकजे और प्रवीण भाई तोगड़िया के स्थान पर कार्यकारी अध्यक्ष बने आलोक कुमार एडवोकेट ने अभी रामलला की चौहद्दी तक नहीं देखी। इतना ही नहीं वीएचपी के मुख्यालय अयोध्या से जुड़े संगठन पदाधिकारी व कार्यकर्ता भी नए सेनापति से अनजान हैं।

52 वर्षों बाद वीएचपी का नेतृत्व ऐसे हाथों में सौंपा गया है, जिनका राम मंदिर अयोध्या से खासा जुड़ाव ना रहा हो। यह वीएचपी के इतिहास में पहला अवसर ही होगा। अब तक वीएचपी की केंद्रीय टीम में मंदिर आंदोलन में देश व प्रदेश स्तर पर अहम भूमिका निभाने वाले नेता ही स्थान पाते थे। 1990 की कार सेवा व 1992 के ढांचा ध्वंस के हीरो रहे दिवंगत अशोक सिंघल ने लंबे समय तक वीएचपी का नेतृत्व किया।

loading…

लगभग एक दशक से स्वास्थ्य खराब होने की वजह से वह संरक्षक की भूमिका में रहकर राम मंदिर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखते रहे। उनकी सक्रियता कम होने के बाद प्रवीण भाई तोगड़िया ने नेतृत्व की कमान संभाली और राम मंदिर मुद्दे पर सिंघल के सुर से सुर मिलाते रहे लेकिन वीएचपी के नव गठित केंद्रीय टीम के मुखिया का रामलला के दरबार व अयोध्या ना आना संगठन की कूटनीतिक कमजोरी के रूप में देखा जा रहा है।

वीएचपी सूत्रों की मानें तो संगठन में अध्यक्ष व कार्यकारी अध्यक्ष के नाम सामने आने के बाद मुख्यालय से जुड़े पदाधिकारी व कार्यकर्ता भी आवाक थे। नाम ना छापने की शर्त पर एक पदाधिकारी ने बताया कि नवनिर्वाचित अध्यक्ष का नाम वह पहली बार सुन रहे हैं। यह कभी अयोध्या नहीं आए।

loading…

Related Articles